A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z #

Arijit Singh

"Rishton Ke Saare Manzar"

रिश्तों के सारे मंज़र
चुपचाप देखता हूँ
रिश्तों के सारे मंज़र
चुपचाप देखता हूँ

हाथों में सबके खंजर
हाथों में सबके खंजर
चुपचाप देखता हूँ
रिश्तों के सारे मंज़र
चुपचाप देखता हूँ

जिसमें पला है मेरे
बचपन का लम्हा लम्हा
जिसमें पला है मेरे
बचपन का लम्हा लम्हा
जिसमें पला है मेरे
बचपन का लम्हा लम्हा
उजड़ा हुआ सा वो घर
चुपचाप देखता हूँ
उजड़ा हुआ सा वो घर
चुपचाप देखता हूँ

हाथों में सबके खंजर
हाथों में सबके खंजर
चुपचाप देखता हूँ
रिश्तों के सारे मंज़र
चुपचाप देखता हूँ

धरता है कितने तोहमत
मुझपे वजूद मेरा
धरता है कितने तोहमत
मुझपे वजूद मेरा
धरता है कितने तोहमत
मुझपे वजूद मेरा
जब भी मैं दिल के अंदर
चुपचाप देखता हूँ
जब भी मैं दिल के अंदर
चुपचाप देखता हूँ

हाथों में सबके खंजर
हाथों में सबके खंजर
चुपचाप देखता हूँ
रिश्तों के सारे मंज़र
चुपचाप देखता हूँ

वो रहगुज़र कभी जो
मंज़िल की इब्तिदा थी
वो रहगुज़र कभी जो
मंज़िल की इब्तिदा थी
वो रहगुज़र कभी जो
मंज़िल की इब्तिदा थी
उसको मैं अब पलटकर
चुपचाप देखता हूँ
उसको मैं अब पलटकर
चुपचाप देखता हूँ

हाथों में सबके खंजर
हाथों में सबके खंजर
चुपचाप देखता हूँ
रिश्तों के सारे मंज़र
चुपचाप देखता हूँ
चुपचाप देखता हूँ

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z #


All lyrics are property and copyright of their owners. All lyrics provided for educational purposes and personal use only.
Copyright © 2017-2019 Lyrics.lol